सुस्वागतम्‍

आपका हार्दिक स्वागत है, आप
से पधारे हैं, आपको यह चिट्ठा कैसा लगा? अपनी बहूमूल्य राय से हमें जरूर अवगत करावें,धन्यवाद।

टिप्पणी के साथ मेल भी चिट्ठे से पायें

apart from getting comments now you can get your mail through your blog without disclosing your email id

कई बार ऐसा होता है कि आपके किसी लेख विशेष पर पाठक आपको कुछ कहना चाहता हो परन्तु टिप्पणी में ना कह सकता हो। तो ऐसे में पाठक क्या करे? या तो इधर उधर से आपका मेल आई डी पता करे या फिर टिप्पणी लिखे!

परन्तु कुछ ऐसे तरीके भी हैं जिन्हें प्रयोग करने के बाद आप पाठकों की मेल भी प्राप्त कर सकेंगे और वो भी बिना मेल आई डी सार्वजनिक किये। कैसे...अरे बहुत ही आसान तरिका है।

सबसे पहले यहाँ जाकर Sign Up कर क्लिक करें

अब इस पन्ने पर जरुरी विवरण भरें

1

और अपने मेल बॉक्स में जो मेल मिली है उसमें दिये लिंक पर क्लिक कर वेरीफिकेशन की प्रक्रिया पूरी करें और लोगिन करें

आपको एक कोड मिलेगा उसे कॉपी कर लें। डेशबोर्ड - लेआऊट- Add a page element में जा कर HTML/JavaScript वाली विजेट पर क्लिक करें

अब उस कोड को पेस्ट करें और शीर्षक की जगह पर लिखें मुझे मेल करें या... कुछ और जो आपको अच्छा लगे। सेव करें।

अब इस विजेट को खींच कर एक्दम पोस्ट के नीचे ले आयें... यह थोड़ा मुश्किल का्म है पर असंभव नहीं। थोड़ी मेहनत के बाद आसानी से हो जायेगा। अब एक बार फिर से सेव करें। चाहें तो बॉटम बार में भी लगा सकते हैं। बॉटम बार में लगाने से पाठक किसी भी पेज से आपको मेल भेज सकेगा ( किसी पोस्ट को खोलने की जरूरत नहीं, होमपेज से भी हो सकेगा।)

आपकी नई पोस्ट देखें... मेल करने की खिड़की पोस्ट के नीचे आ चुकी है।

Technorati Tags: ,,

5 टिप्पणियाँ:

yunus said...

सागर भाई शानदार बेहतरीन । हमने तो इसका फौरन उपयोग कर लिया । लेकिन वो कल वाली टिप्‍पणी व्‍यवस्‍था की झलक दिखाकर आप चुप हो गये । अरे भईया हम अनपढों को सिखा दीजिए ये इंतज़ाम ।

Udan Tashtari said...

करते है व्यवस्था..आपसे बात भी करना है.

SHUAIB said...

MAIN TRY MARONGA AGAR NAKAM HUVA TO PHIR AAPKO PAKDONGA :)

anitakumar said...

सागर जी अपने पल्ले तो कुछ नही पड़ा…।:)

डॊ. कविता वाचक्नवी said...

bahuta achchha va mahatvapoorna jankariyan dene vaala blog laga. kuchh try ki hain, dekhein kahan tak safal hon.
2 vidhiyan aur jan-ne ki ichchha hai-1)kya koi aisa tarika hai ki tippani vale is section mein bhi indic unicode google ka sakriy ho sake? kyonki kabhi jab apne mukhy compu. par na hon va teepna ho to copy paste karna bahut shramdayak hai.

2) blogroll mein doosare links lagane ke lie kya unke bhi codes banane honge? naye links lagane ki lambi prakriya mein poore box ki editing karna jara kathin hai. koi saral tarika ho to batayein ki one by one lagaye ja sakein.

 
template by : uniQue  |    modified by : सागर नाहर   |    Header Image by : Deepa